परिचय

खालिस उर्दू जानने वालों की मिल्कियत समझी जाने वाली, नवाबों-रक्कासाओं की दुनिया में झनकती और शायरों की महफ़िलों में वाह-वाह की दाद पर इतराती ग़ज़लों को आम आदमी तक पहुंचाने का श्रेय अगर किसी को पहले पहल दिया जाना हो तो जगजीत सिंह का ही नाम ज़ुबां पर आता है। उनकी ग़ज़लों ने न सिर्फ़ उर्दू के कम जानकारों के बीच शेरो-शायरी की समझ में इज़ाफ़ा किया बल्कि ग़ालिब, मीर, मजाज़, जोश और फ़िराक़ जैसे शायरों से भी उनका परिचय कराया।

2 टिप्पणियाँ »

  1. Anil Sharma said,

    pranam guru ji.
    main dil ki jo awaz hai o main sab tak pahuchana chahta hoon,
    jagjit singh ji ek Maa Saraswati ki den hai.
    main bhi jagjit singh ke saath gana chahta hoon.ek din main aaunga lot kar.

  2. neeraj thapliyal said,

    I THINK NO SHER CUD BE BEST TO DESCRIBE JAGJIT JI AND THAT IS

    “HUMNE DEKHA HAI KAI AISE KHUDAON KO YEHAN ,
    SAAMNE JINKE WO SACH MUCH KA KHUDA KUTCH BHI NAHI”

    MAY GOD BLESS HIM AND KEEP SINGING LIKE THIS.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: